आज की शाम ढलते ही चुपचाप जला कपूर रखे यहां पुराने से पुराना कर्ज होगा दूर

loading...
Loading...